Contact us for coverage : +91-6284337232, Active Visitor: 10521

उद्योगों में क्लस्टर योजना लागू करना सराहनीय फैसला

दिनांक: 15/02/2021



अशवनी अग्रवाल, ए़डिटर

पंजाब के उद्योगों में अधिकतर मध्यम एवं छोटी इकाइयां हैं। उनके पास इतना धन नहीं है कि बहुराष्ट्रीय उत्पादकों की तरह नए उत्पाद विकसित कर, उन्हें बाजार में भेज सकें। पंजाब सरकार के उद्योग मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा ने पंजाब में 15 प्रकार के उद्योगों में क्लस्टर विकसित करने की घोषणा की। सरकार का निर्णय सराहनीय हैं एवं सरकार की योजनाओं का लाभ लेने के लिए उद्योगपतियों को मिलकर आगे आना होगा। जालंधर से केवल सर्जिकल उद्योग क्लस्टर योजना का लाभ लेने के लिए आगे आया है परंतु अन्य उत्पादों के निर्माता सरकार की योजना से अछूते हैं।

कोविड के कारण बने हालातों में से तेज़ी से उबरने, राज्य में औद्योगीकरण को बढ़ावा देने और रोजग़ार के और ज्य़ादा अवसर पैदा करने के उद्देश्य से पंजाब सरकार ने कलस्टर विकास पहुँच अपनाने का फ़ैसला किया है। राज्य सरकार की ओर से केंद्र सरकार के माईक्रो एंड स्मॉल एंटरप्रायज़ेज़ कलस्टर डिवैल्पमैंट प्रोग्राम (एमएसई-सीडीपी) के अंतर्गत इनके लिए कॉमन फैसिलीटेशन सैंटर (सी.एफ.सी.) स्थापित करने के लिए 15 औद्योगिक कलस्टरों की पहचान की गई है।

यह कलस्टर प्रस्ताव लागूकरण के विभिन्न पड़ावों पर हैं। चार कलस्टरों में केंद्र सरकार द्वारा हाईटैक मेटल कलस्टर, मोहाली, ऑयल एक्सपैलर एंड पार्ट्स कलस्टर, लुधियाना, गारमेंट्स कलस्टर, लुधियाना और फ़ाउंडरी कलस्टर, कपूरथला नामक 4 डीपीआरज़ को अंतिम मंज़ूरी दी गई है, जिसके लिए केंद्र सरकार प्रोजैक्ट की अधिक से अधिक 15 करोड़ रुपए की प्रोजैक्ट लागत का 70 प्रतिशत से 90 प्रतिशत तक अनुदान मिलता है। हाईटैक मेटल कलस्टर, मोहाली और ऑयल एक्सपैलर एंड पार्ट्स कलस्टर, लुधियाना पहले ही मुकम्मल हो चुके हैं, जबकि बाकी कलस्टरों का काम युद्ध स्तर पर चल रहा है।

कैबिनेट मंत्री ने बताया कि ऑटोटैक कलस्टर, लुधियाना, सिलाई मशीन कलस्टर, लुधियाना और पटियाला में कटिंग टूल्ज़ कलस्टर समेत तीन और कलस्टरों को सरकार से सैद्धांतिक मंज़ूरी मिल गई है और दूसरे कलस्टरों में क्षमता निर्माण का प्रारंभिक कार्य जारी है।

इसके अलावा लुधियाना के ऑयल एक्सपैलर एंड पार्ट्स कलस्टर, वायर ड्राइंग कलस्टर, ट्रैक्टर पार्ट्स कलस्टर, शीट मेटल कलस्टर, गारमेंट्स कलस्टर, ऑटो पार्ट्स कलस्टर, सिलाई मशीन कलस्टर और प्रिंटिंग और स्टेशनरी कलस्टर, मोहाली के हाईटैक मेटल कलस्टर और एडवांस्ड मशीनरी कलस्टर, सर्जीकल कलस्टर, जालंधर, फ़ाउंडरी और जनरल इंजीनियरिंग कलस्टर, फग़वाड़ा (कपूरथला), कटिंग टूल कलस्टर, पटियाला, बुनाई कलस्टर, अमृतसर, स्टील री-रोलिंग मिल कलस्टर, मंडी गोबिन्दगढ़, (फतेहगढ़ साहिब) इस योजना के अधीन पहचान किए गए कलस्टरों में हैं।

कलस्टर विकास स्कीम के अंतर्गत, एस.पी.वी. को नवीनतम तकनीक से लैस कॉमन फैसिलीटेशन सैंटरों (सी.एफ.सी) के निर्माण के लिए 15 करोड़ से 20 करोड़ रुपए मिलते हैं, जिनका प्रयोग नाममात्र दर पर कलस्टर के सदस्यों द्वारा किया जाता है। इसलिए कलस्टर पहुँच उद्योगों को नाममात्र दर पर नवीनतम तकनीक वाली मशीनों का प्रयोग करने में सहायता करती है और जिसके साथ इनकी उत्पादकता में सुधार होता है।

ट्रेंडिंग खबरे